-->

Top 10 Richest Temple In India ( भारत के 10 सबसे अमीर मंदिर )

 हमारा देश भारत धर्म संस्कृति कला इतिहास और रीति रिवाजों का देश है। ये भूमि हमेशा से ही साधु संतों और महान आत्माओं से सुसज्जित रही है। यहां के राजाओं ने मुंबई के कोने कोने में अपने समय के कला का अद्भुत नमूना पेश किए हैं। भारत देश के लोग धर्म में अटूट विश्वास रखते हैं और यही कारण है कि हम अपने आराध्य के लिए सर्वस्व न्योछावर करने के लिए तैयार रहते हैं। तो दोस्तो चलिए जानते हैं भारत के 10 सबसे अमीर मंदिरों के बारे में। 

नंबर 10 सोमनाथ मंदिर 

गुजरात के सौराष्ट्र बनाये मंदिर 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक हैं। ये चालुक्य स्थापत्य कला का बेहतरीन नमूना है। इस मंदिर की बात से कलाकृतियाँ विदेशी आक्रमणकारियों ने तोड़ दी थीं। इस मंदिर के व्यास में सात बार पुनः निर्माण किया गया है या का शिखर करीब 15 मीटर ऊँचा है या हर साल लाखों लोग आते हैं और हर साल ये मंदिर 30 से 35 करोड़ रुपए की कमाई करता है। 

नंबर 9 सिद्धिविनायक मंदिर 

अब इस मंदिर के तो कोई परिचय की जरूरत नहीं है। मुम्बई का सिद्धिविनायक मंदिर बेहद प्रसिद्ध है। हर दिन 25 हजार से लेकर 2 लाख तक लोग आते हैं। यहां विराजमान भगवान गणेश की मूर्ति 200 साल पुरानी है और इसके ऊपर का मुकुट करीबन 4 किलो सोने से जुडा हुआ है। यह देश विदेश में सेलेब्रिटी जाते रहते हैं इसलिए आपको सुरक्षा के कड़े इंतजाम मिलेंगे। इस मंदिर की साल की कमाई 125 से 150 करोड़ रुपए के करीब है। 

नंबर 8 सबरीमाला मंदिर केरला

 सबरीमाला मंदिर के कोने कोने में धर्म बसता है। ये मंदिर तीन हजार फीट ऊंचे पर्वत पर है और यहां भगवान अयप्पन के बाद भारी संख्या में आते हैं। कैसे किस मंदिर में इतना दान दिया जाता है क्या लोग नहीं बल्कि रोबोट काम करने वाले हैं। यहां हर साल करीब 15 किलो सोना और डेढ़ दो करोड़ के करीबन दान आता है। मुझे सबरीमाला मंदिर की विशेषता ये भी है कि यहां हर कोई नहीं आ सकता। इसी बात को लेकर हाल में विवाद भी हुआ था। 

नंबर 7 गोल्डन टेंपल 

अमृतसर का स्वर्ण मंदिर दुनिया का सबसे प्रसिद्ध तीर्थस्थलों में गिना जाता है और सिख धर्म के लोगों के लिए खास महत्व रखता है। इस मंदिर की साल की कमाई इतनी है। इस क्रम को भी रखा गया है लेकिन इस मंदिर का स्वर्ण का शिखर और उसपर चढ़ी सोने की परत इसकी समृद्धि का उत्तर अपने आप देती है। यहां रोज करीब 50 हजार लोग आते हैं और यहां आने वाले श्रद्धालुओं को हर दिन तीन बार भोजन कराया जाता है वो भी मुफ्त। वैसे अगर आप रात के समय आ जाते हैं तो सोने और चांदी से चमकता है मंदिर अलग अलग रंग की लाइट्स के साथ बेहद खूबसूरत लगता है।

नंबर 6 जगन्नाथ मंदिर 

पुरी का जगन्नाथ मंदिर भारत के सबसे पुराने विष्णु मंदिरों में माना जाता है और यहां हजारों की संख्या में भक्त आते हैं। खासतौर से साल में निकलने वाली रथयात्रा के दौरान यहां आने वाले लोगों की गिनती करना बेमानी है। इस मंदिर की खूबसूरती और शिल्प कला देखने योग्य है। यहां सिर्फ भगवान जगन्नाथ की मूर्ति 200 9 किलो सोने से सजाए जाते हैं। इस मंदिर की साल की कमाई 150 से 200 करोड़ रुपए है और कहा जाता है कि यहां पांच तहखाने में जहां बेशुमार संपत्ति हैं लेकिन इन्हें आज तक खोला नहीं गया।

नंबर 5 साईं मंदिर 

शिर्डी नासिक साईंबाबा के भक्त दुनियाभर में फैले हुए हैं। भारत धर्म के लोग मानते हैं और उनकी भक्ति में लीन रहते हैं। ये मंदिर उसी शिरडी में स्थित जहां साईंबाबा ने अपने जीवन व्यतीत किया था और अपने चमत्कारों और अपने दयाभाव से लोगों की सहायता की थी। साईं बावली सिंहासन पर बैठते हैं सिर्फ वही 94 किलो सोने से बना है और इसकी कीमत 10 करोड़ रुपए से ज्यादा है। इसके बाद कहा जाता है कि साईं बाबा ट्रस्ट अकाउंट में 18 सौ करोड़ रुपए 380 किलो सोना 4 हजार 500 किलो चांदी और काफी संख्या में विदेशी मुद्रा भी है या इस साल की कमाई 320 करोड़ रुपए के लगभग है। 

नंबर 4 श्री वैष्णो देवी

जम्मू ज़मीन से बावन फीट ऊपर लाखों साल प्राचीन गुफा में बनाए मंदिर देवी वैष्णवी को समर्पित हैं। हिन्दू कथाओं में बहुत से महत्वपूर्ण स्थान से माना गया है और यही कारण है कि रास्ते की तमाम दिक्कतों के बावजूद यहां हर साल लाखों की संख्या में भक्त आते हैं। मंदिर में हर साल 500 करोड़ तक का दान दिया जाता है। तो दोस्तों जरा कमेंट करके बताये कि आप में से कौन कौन वैष्णो माता मंदिर के दरबार में अपने परिवार के साथ दर्शन कर चुका है।

नंबर 3 गुरुवाणी वीरप्पन टेंपल 

गिरवाई और केरल में स्थित यह मंदिर भगवान श्रीकृष्ण का है और इसे दक्षिण की द्वारिका भी कहा जाता है या भगवान श्रीकृष्ण उनके बाल रूप में पूजा जाता है और कहा जाता है कि मंदिर में चुम्बकीय शक्तियां जिसके कारण आने वाले हर व्यक्ति को सुकून की मज़बूती होती है या हर दिन 50 हजार लोग आते हैं और यहां की कुल संपत्ति करीब ढाई हजार करोड़ रुपए के करीब है। 

नंबर 2 तिरुपति बालाजी 

तिरुपति बालाजी आंध्रप्रदेश 10वीं शताब्दी में बना श्री तृप्ति बालाजी मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित है और ये भारतीय नहीं बल्कि विश्व के सबसे बड़े और अमीर मंदिरों में गिना जाता है। यहां हर दिन करीब 30 हजार लोग आते हैं और त्योहार के समय आंकड़ा 5 लाख को पार कर देता है या बहुत से लोग अपने बालो को दान करते हैं जिन्हें बाद में बेच दिया जाता है। कुल मिलाकर इस मंदिर की साल भी कमाई 650 करोड़ रुपए के करीब है। कुल संपत्ति 30 लाख करोड़ से ज्यादा। आपको जानकर यकीन नहीं होगा कि हर साल 3000 किलो से ज्यादा तोला तो सुनाई दान में दिए जाता है। आखिर भगवान तिरुपति की महिमा ही इतने 

नंबर 1 पद्मनाभस्वामी मंदिर 

केरल के दरवाजे पुराने बनाए मंदिर जितना खूबसूरत उतना ही मनोरम। इसका इतिहास भी है। इस मंदिर की कहानियां पुराणों से जुड़ी हैं। यह बात इसकी प्राचीनता पर मुहर लगा दे।ये भारत का ही नहीं बल्कि दुनिया का सबसे अमीर मंदिर है।कुछ साल पहले इस मंदिर के छह में से पांच तहखाने खोले गए। उसमें से एक लाख करोड़ का खजाना मिला था जिसमें सोने के आभूषण प्राचीन मूर्तियां हीरे मोती और न जाने क्या क्या निकला था। यहां मिली महाविष्णु की मूर्ति 500 करोड़ से ज्यादा की है। दो तो यह भारत के सबसे अमीर मंदिर। 

आप इनमें से कौन कौन से मंदिर में जा चुके हैं हमें कमेंट करके जरूर बताएं। 


Related Posts

Post a Comment

Subscribe Our Newsletter